निजामुद्दीन स्थित मरकज में जहां मार्च में तब्लीगी जमात का आयोजन हुआ था उसे आज पूरी तरह खाली कराकर सील कर दिया गया है। इस इलाके में और मरकज भवन में सैनिटाइजेशन का काम चल रहा है। वहीं तबलीगी जमात का आयोजन करने वाले मौलाना साद समेत छह लोगों पर प्राथमिकी दर्ज की गई है।कर्नाटक में 14 लोगों को क्वारंटाइन किया
कर्नाटक के कलाबुरगी के उपायुक्त शरत बी ने बताया कि दिल्ली के मरकज निजामुद्दीन में कार्यक्रम में कलाबुरगी जिले के 26 लोग शामिल हुए थे। 26 लोगों में से 14 लोग जिले में वापस आए हैं और उन्हें क्वारंटाइन किया गया है।

तब्लीगी जमात में भाग लेने वाले असम के पांच लोग संक्रमित
असम में कोरोना वायरस के पांच नए मामले सामने आए हैं। असम के मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि एक को सिल्चर मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में और चार को गुवाहाटी के गौहाटी मेडिकल कॉलेज में स्थानांतरित कर दिया गया है। इन सभी लोगों ने निजामुद्दीन (दिल्ली) में तब्लीगी जमात कार्यक्रम में भाग लिया था।

नागपुर में 54 लोगों को किया पृथक
नागपुर नगर निगम के आयुक्त तुकाराम मुंडे ने बताया कि दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शामिल हुए नागपुर के 54 लोगों की पहचान की गई है और उन्हें पृथक कर दिया गया है।

तबलीगी जमात आयोजन में शामिल लोगों की हो रही खोज
निजामुद्दीन में तबलीगी जमात के धार्मिक आयोजन में शामिल होने गए और उनके संपर्क में आए छत्तीसगढ़ के लोगों की खोज की जा रही है। राज्य के वरिष्ठ अधिकारियों ने बुधवार को यहां बताया कि तबलीगी जमात आयोजन में छत्तीसगढ़ के कई लोगों के शामिल होने की जानकारी मिली है। इनमें से 101 लोगों की पहचान कर उन्हें पृथक केद्रों में भेजा गया है।

35 लोगों का अहमदनगर में पता चला
दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में पिछले माह हुए धार्मिक आयोजन में शामिल कम से कम 35 लोगों का महाराष्ट्र के अहमदनगर में होने का पता चला है। अधिकारी ने बुधवार को बताया कि इन 35 लोगों में से 29 इंडोनेशिया, तंजानिया, दक्षिण अफ्रीका, घाना और अन्य देशों के नागरिक हैं जबकि शेष स्थानीय निवासी हैं। उन्होंने बताया कि समूह का हिस्सा रहा एक विदेशी और एक स्थानीय व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया है।

उत्तराखंड के सभी 26 लोग अभी दिल्ली में ही: पुलिस
कोरोना वायरस संकट के बीच निजामुद्दीन मरकज में शामिल होने गई उत्तराखंड की जमात के सभी 26 सदस्य अभी दिल्ली में ही हैं। उत्तराखंड पुलिस महानिदेशक(कानून एवं व्यवस्था) अशोक कुमार ने यहां बताया कि निजामुद्दीन मरकज में उत्तराखंड से शामिल जमात के सभी 26 लोग अभी दिल्ली में ही हैं। उन्होंने कहा कि इन लोगों की मोबाइल लोकेशन से भी इस बात की पुष्टि कर ली गई है। हालांकि, कुमार ने कहा कि तबलीगी जमातें देश में एक जगह से दूसरी जगह आती-जाती रहती हैं और ऐसे में अगर किसी भी सदस्य में कोरोना संक्रमण के लक्षण नजर आयें तो उसे छुपाना नहीं चाहिए और सामने आना चाहिए।

सम्भल के दो लोगों को पृथक किया गया
दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में शामिल दो लोगों को बुधवार को सम्भल प्रशासन ने पृथक कर दिया है और उनके नमूने लिए जा रहे हैं। जिलाधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह ने बताया कि प्रदेश सरकार के निर्देश पर जगह जगह चेकिंग की जा रही है, सम्भल में दो लोग ऐसे आए हैं जिन्होंने हमें बताया कि हम जमात में शामिल होकर आए हैं। उन दोनों को पृथक कर दिया गया है और दोनों के नमूने लिए जा रहे हैं।

तेलंगाना से गए थे 1200 लोग
तेलंगाना के स्वास्थ्य मंत्री एटाला राजेंद्र ने बताया कि राज्य के लगभग 1,200 लोग दिल्ली के मरकज में शामिल हुए थे, उनमें से कुछ कोरोना से संक्रमित पाए गए। इनमें से छह की मृत्यु हो गई। पिछले तीन दिनों में जो लोग मरकज के लिए दिल्ली गए थे वो कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए। 

गुजरात के 72 लोग थे शामिल
डीजीपी शिवानंद झा ने बताया कि गुजरात के 72 लोग, जिनमें अहमदाबाद के 34, भावनगर के 20 और मेहसाणा के 12 लोग शामिल हैं, ये सभी लोग दिल्ली में तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए थे। भावनगर का एक व्यक्ति कोरोना से संक्रमित था उसका निधन हो गया, जबकि अन्य 71 लोगों को क्वारंटीन में रखा गया है।