फैशन डिजाइनर माला लखानी गोवा में एक विला खरीदने की योजना बना रही थी. वह फैशन डिजाइनिंग छोड़ने को भी तैयार थी और मिट्टी के बर्तन बनाने की कला सीखना चाहती थी. लेकिन इससे पहले ही उनकी हत्या कर दी गई. 
सफदरजंग अस्पताल में शवगृह के बाहर इंतजार कर रही फैशन डिजायनर माला लखानी की बड़ी बहन आरती ने कहा कि पीड़िता का घरेलू सहायक बहादुर हमेशा उससे कहता था कि ‘हम साथ मरेंगे.’ 

गौरतलब है कि हादसे में माला के साथ उसके घरेलू सहायक की भी हत्या कर दी गई है. परिवार के सदस्यों ने बताया कि ग्रीन पार्क में तुलसी क्रिएशन नामक एक बुटिक चलाने वाली माला की योजना गोवा जाने की थी.
आरती ने कहा कि बहादुर के शब्द अब लगभग भविष्यवाणी प्रतीत हो रही है. 50 वर्षीय बहादुर और 53 वर्षीय माला का शव दक्षिण दिल्ली के वसंत कुंज इंक्लेव इलाके में उसके घर से बरामद किये गये. बहादुर, माला को अपनी बहन की तरह मानता था.
बकाया लंबित रहने को लेकर एक विवाद के बाद माला के दर्जी और उसके दो साथियों ने धारदार हथियार से यह हत्या कर दी. आरती ने कहा, ‘बहादुर हमेशा मजाक में कहता था कि वह माला के साथ मरेगा. वह बचपन से हमारे साथ रह रहा था.’