नई दिल्ली।मुजफ्फरपुर आश्रय गृह मामले में राज्य की पूर्व मंत्री मंजू वर्मा को जेडीयू ने पार्टी से निलंबित कर दिया है। सोमवार को ही सुप्रीम कोर्ट ने बिहार पुलिस को फटकार लगाई थी। मंजू वर्मा की गिरफ्तारी न होने से नाराज सुप्रीम कोर्ट ने बिहार के डीजीपी से जवाब तलब किया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ये चौंकाने वाली बात है कि मंजू वर्मा को खोजा नहीं जा सका है। कोर्ट ने कहा कि यह कमाल की बात है, किसी को यह नहीं पता कि राज्य की एक पूर्व कैबिनेट मंत्री कहां हैं।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में मुजफ्फरपुर आश्रय गृह रेप मामले में सुनवाई हो रही है। पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को समय पर चार्जशीट दाखिल करने के लिए कहा था, जिससे कि आरोपी जमानत न ले सके। बिहार पुलिस को पूर्व मंत्री मंजू वर्मा की खबर न होने पर सुप्रीम कोर्ट ने आश्चर्य जताते हुए कहा था कि बिहार में सब कुछ सही नहीं चल रहा है। कोर्ट ने कहा कि यदि वर्मा 27 तक गिरफ़्तार नहीं होती हैं तो डीजीपी स्पष्टीकरण देने के लिए कोर्ट में पेश हों। इस मामले में अगली सुनवाई 27 नवंबर को होगी। मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप कांड में करीब 34 बच्चियों के साथ रेप की पुष्टि हुई थी। इसके बाद मंजू वर्मा के पति पर भी आरोपी ब्रजेश ठाकुर के साथ संपर्क रखने और अवैध हथियार मिलने की वजह से गाज गिरी थी। मंजू वर्मा को बिहार सरकार से इस्तीफा देना पड़ा था।