नई दिल्ली : टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और उनकी पत्नी हसीन जहां के घरेलू विवाद का मामला शांत होता नहीं दिख रहा है. हसीन जहां ने शमी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं. ये मामला अभी कोर्ट में चल रहा है. हालांकि इस मामले के अभी कोर्ट में होने के बावजूद उन्हें टीम इंडिया की टेस्ट टीम में जगह दी गई है. अभी अभी वह इंग्लैंड दौरे से लौटे हैं. लेकिन इस विवाद के कारण मोहम्मद शमी के सिर से अभी संकट के बादल छंटे नहीं हैं. इसका कारण है शमी का कोर्ट की कार्यवाही के प्रति उदासीन रवैया अख्तियार करना. 20 सितंबर को शमी को कोलकाता के अलीपुर की सीजेएम कोर्ट में पेश होना था, लेकिन वह कोर्ट नहीं पहुंचे. इस पर कोर्ट में शमी के वकील ने उनका पक्ष रखते हुए कहा कि वह किसी कारण से वह कोर्ट में पेश नहीं हो सके.

शमी के वकील की इस दलील पर जज भड़क गए. मीडिया रिपोर्ट के मानें तो उन्होंने वकील की दलील को खारिज कर दिया. हालांकि बाद में थोड़ी नरमी दिखाई. इसके साथ ही उन्होंने इस मामले में अगली सुनवाई 14 नवंबर मुकर्रर कर दी. साथ ही हिदायत दी कि अगर शमी इस तारीख को कोर्ट में पेश नहीं हुए तो उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो सकता है.
बता दें कि हसीन जहां ने आरोप यह लगाया था कि शमी ने उन्हें महीने के खर्च के लिए जो चैक दिया वह बाउंस हो गया है. इसी मामले की सुनवाई कोलकाता की कोर्ट में होनी थी. हसीन ने शमी व उनके बड़े भाई समेत परिवार के पांच सदस्यों पर मानसिक व शारीरिक शोषण समेत कई आरोप लगाए थे. पहले बीसीसीआई ने उन्हें अनुबंध से बाहर कर दिया था, लेकिन बाद में उनकी टीम में वापसी हो गई. उधर हसीन ने जहां ने मॉडलिंग की दुनिया में वापसी कर ली.
इस समय शमी से अलग रह रहीं हसीन पहले आईपीएल की टीम केकेआर की चीयरलीडर्स रह चुकी हैं. लेकिन शमी के साथ 2014 में शादी के बंधन में बंधने के बाद उन्होंने इस पेशे को अलविदा कह दिया था. लेकिन इस साल दोनों के बीच मनमुटाव की खबरों ने जमकर सुर्खियां बटोरीं. उसके बाद दोनों के बीच झगड़ा घर की चार दीवारी से निकलकर कोर्ट कचहरी के गलियारों में पहुंच गया.