नई दिल्ली: अभिनेता ईशान खट्टर का कहना है कि 'धड़क' फिल्म से उनके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन आए हैं. वह सही मौकों को अपनाकर खुद को चुनौती देना चाहते हैं. 'धड़क' से उनके जीवन में आए बदलावों के सवाल पर ईशान ने मीडिया को बताया, 'फिल्म से मेरे जीवन में कुछ बहुत विशेष लोगों के आने से सकारात्मक बदलाव आया है'.

उन्होंने कहा, 'पेशेवर तौर पर, ज्यादा लोगों ने मेरा काम देखा और आशा है कि इससे भविष्य में मुझे मिलने वाले अवसरों पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा'. बता दें कि मराठी फिल्म 'सैराट' से प्रेरित होकर बॉलीवुड में बनाई गई 'धड़क' से जाह्नवी कपूर ने बॉलीवुड में अपने करियर का आगाज किया था. 

वहीं ईशान खट्टर की हात करें तो उन्होने ईरानी फिल्म निर्माता माजिद मजीदी की फिल्म 'बियांड द क्लाउड्स' से फिल्मों में पदार्पण किया था, लेकिन उन्होंने बॉलीवुड में उनकी पहली फिल्म 'धड़क' थी. जिसमें उनके एक्टिंग को दर्शकों ने खूब पसंद किया था.


शशांक खेतान निर्देशित फिल्म 'धड़क' का निर्माण संयुक्त रूप से करण जौहर की 'धर्मा प्रोडक्शंस' तथा 'जी स्टूडियो' ने किया था. फिल्म में ऑनर किलिंग के मुद्दे को उठाया गया था. छोटे पर्दे पर इसका पहला प्रसारण 30 सितंबर को 'जी सिनेमा' पर होगा.

'धड़क' के बाद ईशान उन्हें आगे बढ़ाने वाले किरदार निभा कर खुद को चुनौती देना चाहते हैं. उन्होंने आगे कहा, 'और ऐसे लोगों के साथ काम करना चाहता हूं, जो मुझे नई चुनौतियां दें'.

आपके बता दें कि ईशान वरिष्ठ अभिनेत्री नीलिमा अजीम के बेटे और शाहिद कपूर के भाई हैं. परिवारवाद की बहस पर उन्होंने कहा, 'यह निष्पक्ष है'.आपको बता दें कि  'धड़क' सुपरहिट मराठी फिल्म 'सैराट' की रीमेक है. 'सैराट' पहली मराठी फिल्म थी, जिसने बॉक्स-ऑफिस पर 100 करोड़ का आंकड़ा पार किया था. 'सैराट' के डायरेक्टर नागराज मंजुले थे.