नई दिल्ली, रविवार को संसद भवन की एनेक्सी बिल्डिंग में कांग्रेस वर्किंग कमिटी (सीडब्ल्यूसी) की बैठक होगी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सभी राज्यों के कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष, प्रभारी और विधानमंडल दल के नेता से मुलाकात करेंगे। मंगलवार को राहुल गांधी ने नई सीडब्ल्यूसी का गठन किया था।

नई सीडब्लूसी में कुल 51 सदस्य होंगे। इनमें 23 सदस्य, 18 स्थाई सदस्य और दस विशेष आमंत्रित सदस्य बनाए गए हैं। राहुल गांधी ने पहली बार कांग्रेस के मोर्चा संगठन मसलन यूथ कांग्रेस, एनएसयूआई, महिला कांग्रेस, इंटक और सेवा दल के अध्यक्षों को सीडब्लूसी में विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया है। अभी तय यह विस्तारित सीडब्लूसी समिति के सदस्य होते थे। मोर्चा संगठनों के साथ अरुण यादव, जितिन प्रसाद और दीपेंद्र हुड्डा को भी सीडब्लूसी का विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया है।


दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, पी चिदंबरम, ज्योतिरादित्य सिंधिया और विभिन्न प्रदेशों का प्रभार संभाल रहे अनुग्रह नारायण सिंह और राजीव सातव जैसे कई युवा नेताओं को सीडब्लूसी का स्थाई सदस्य बनाया गया है। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगई भी सीडब्लूसी के सदस्य बनाए गए हैं।


तरुण गोगई के बेटे गौरव गोगई भी सीडब्लूसी के स्थाई आमंत्रित सदस्य हैं। वह पश्चिम बंगाल और अंडमान निकोबार के प्रभार संभाल रहे हैं। कांग्रेस संविधान के मुताबिक सीडब्लूसी में 25 सदस्य होते हैं। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने अभी सिर्फ 23 सदस्यों की घोषणा की है। ऐसे में सीडब्लूसी में दो पद खाली हैं।