मुंबई  घटना में शामिल विमान कोयंबटूर - हैदराबाद और बेंगलुरु - कोचिन हवाई मार्ग पर जा रहे थे। इंडिगो के एक प्रवक्ता ने घटना की पुष्टि की है। हैदराबाद जाने वाले विमान में 162 यात्री जबकि दूसरे विमान में 166 यात्री सवार थे। सूत्रों ने एजेंसी को बताया कि दोनों विमानों में बस 200 फुट की दूरी थी जब यह हवा में एक - दूसरे के सामने आ गए थे और ट्रैफिक कोलिजन एवॉयडेंस सिस्टम (टीसीएएस) अलार्म के बजने के बाद इस हादसे को टाला जा सका। सूत्रों ने बताया कि विमान दुर्घटना जांच बोर्ड (एएआईबी) ने 10 जुलाई को घटी इस घटना की जांच शुरू कर दी है।

 घटना में शामिल विमान कोयंबटूर - हैदराबाद और बेंगलुरु - कोचिन हवाई मार्ग पर जा रहे थे। इंडिगो के एक प्रवक्ता ने घटना की पुष्टि की है। हैदराबाद जाने वाले विमान में 162 यात्री जबकि दूसरे विमान में 166 यात्री सवार थे। सूत्रों ने एजेंसी को बताया कि दोनों विमानों में बस 200 फुट की दूरी थी जब यह हवा में एक - दूसरे के सामने आ गए थे और ट्रैफिक कोलिजन एवॉयडेंस सिस्टम (टीसीएएस) अलार्म के बजने के बाद इस हादसे को टाला जा सका। सूत्रों ने बताया कि विमान दुर्घटना जांच बोर्ड (एएआईबी) ने 10 जुलाई को घटी इस घटना की जांच शुरू कर दी है।